xpornplease.com pornjk.com porncuze.com porn800.me porn600.me tube300.me tube100.me watchfreepornsex.com
Published On: Thu, Sep 20th, 2018

50th Anniversary of Martyrdom of 5 Railwaymen during 1968 Strike at Pathankot

Share This
Tags

पठानकोट सिटी रेलवे स्टेशन पर एनआरएमयू ने की 50 वीं शहीदी कांफ्रेंस
रेलवे कर्मचारियों की मांगों को यदि जल्द पूरा न किया गया तो एनआरएमयू दिसंबर में संसद का घेराव करेगी। यह बात एनआरएमयू व एआईआरएफ के प्रधान कामरेड शिव गोपाल शर्मा पठानकोट सिटी रेलवे स्टेशन पर की गई 50वीं शहीदी कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की ओर से रेलवे कर्मचारियों की मांगों को पूरा नहीं किया जा रहा। केंद्र सरकार कार्पोरेट घरानों को लाभ पहुंचाने के लिए सरकारी विभागों का निजीकरण कर रही है। जोकि कर्मचारी यूनियन कभी सफल नहीं होने देंगी। सरकार रेलवे की तीन लाख खाली पोस्टें नहीं भरी रही और न ही सातवें पे कमिशन की त्रुटियों को दूर किया जा रहा है।

उन्होंने सरकार से मांग करते हुए कहा कि पुरानी पेंशन स्कीम बहाल की जाए, कम से कम 26000 वेतन किया जाए। रेलवे फाटकों पर गेटमैनों को प्रोटेक्शन दी जाए। उन्होंने कहा कि यूनियन की ओर से मांगों को लेकर दिसंबर में संसद का घेराव किया जाएगा। इसमें रेलवे मंडल के अधीन आती एनआरएमयू के सदस्य शामिल होंगे। यदि फिर भी उनकी मांगों को पूरा नहीं किया तो यूनियन की ओर से संघर्ष को तेज किया जाएगा।

सीटीयू के प्रधान सीनियर उपाध्यक्ष कामरेड मंगत राम पासला ने कहा कि पंजाब की कैप्टन सरकार लोगों की मुख्य मांगों से उनका ध्यान हटा कर धर्म के नाम पर बांटने के प्रयास कर रहे हैं। पंजाब में मजदूर किसान लगातार आत्म हत्याएं कर रहे हैं। कैप्टन सरकार ने चुनावों के दौरान लोगों से जो वादे किए थे उसे पूरा नहीं किया जा रहा। केंद्र सरकार व पंजाब सरकार महंगाई पर काबू पाने में असफल साबित हो रही है।

एनआरएमयू के महासचिव कामरेड शिव दत्त ने कहा कि डिवीजन स्तर पर कंडम क्वार्टरों के स्थान पर नए क्वाटर बनाए जाए। रनिंग अलाउंस 1980 के फार्मूले के तहत उनकी मांगों को यदि जल्द पूरा न किया गया तो यूनियन संघर्ष करेगी। इस मौके पर कामरेड इश, कामरेड राजीव कुमार, कामरेड नत्था सिंह, कामरेड हरिन्द्र सिंह, अश्विनी कुमार, गौरव कुमार, राजेश आहुजा, नरिन्द्र सिंह, त्रिभवन, मास्टर सुभाष शर्मा, कामरेड शिव कुमार, राम बिलास, मास्टर प्रेम सागर, आशा रानी, राजेन्द्र धीमान, सतपाल, परमजीत सिंह व जनक राज आदि मौजूद थे।

About the Author

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>